लखनऊ विश्वविद्यालय में प्रोफेसर ईश्वर रेड्डी का व्याख्यान

लखनऊ : 15 अप्रैल (त्रिवेणी न्यूज़)

भारतीय खगोल भौतिकी संस्थान के प्रोफेसर ईश्वर रेड्डी ने आज लखनऊ विश्वविद्यालय के भौतिकी विभाग के आशुतोष प्रधान सभागार में थर्टी मीटर टेलीस्कोप (टीएमटी) अंतर्राष्ट्रीय वेधशाला पर एक व्यापक व्याख्यान दिया। व्याख्यान ने विश्वविद्यालय समुदाय और संबंधित कॉलेजों दोनों से उत्सुक दर्शकों को आकर्षित किया।
ज्ञात हो कि तीस मीटर टेलीस्कोप [Thirty Meter Telescope(TMT)], माउना कीआ, हवाई मे स्थापित होने जा रहा दुनिया का सबसे बड़ा ऑप्टिकल टेलीस्कोप है | अगली पीढ़ी के इस टेलीस्कोप में तीस मीटर का दर्पण लगा होने के कारण इसका नाम तीस मीटर टेलीस्कोप यानी टीएमटी रखा गया है | यह स्पष्ट तस्वीरों को लेने के लिए अल्ट्रावायलट इमेज को मिड-इंफ्रारेड वेवलैंथ की मदद से खिंचेगा | इसके निर्माण में लगभग 54 अरब रुपए खर्च होने का अनुमान है  टीएमटी 13 अरब प्रकाश वर्ष दूर स्थित आकाशीय पिंडो की तस्वीर ले सकने में सक्षम होगा जबकि विज्ञान के सिद्धांतों के अनुसार माना इससे कुछ अधिक दूरी पर ही ब्रह्मांड का दूसरा छोर होने की संभावना है | टीएमटी मौजुदा ऑप्टिकल टेलीस्कोप की तुलना में नौ गुना बड़ा होगा और उससे तीन गुना अधिक स्पष्ट तस्वीरें ले सकेगा तथा ब्रम्हांड के प्रारंभ से लेकर ब्रम्हांड के विकास से संबंधित अन्य जानकारियां हासिल हो सकेंगी ।

यह परियोजना पांच देशों अमेरिका, कनाडा, जापान, चीन और भारत के शैक्षणिक संस्थानो और वैज्ञानिकों के बीच सहयोग का नतीजा है | प्रो. ओंकार प्रसाद और एलयूटीए अध्यक्ष डॉ. आर.बी. सिंह ने स्मृति के तौर पर अंगवस्त्र और स्मृति चिन्ह भेंट किया। कार्यक्रम का संचालन प्रो लीना सिन्हा एवं डॉ ज्योत्सना सिंह ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *