लखनऊ विश्वविद्यालय द्वारा बच्चों के प्रति यौन अपराध के रोकथाम के संबंध में कार्यशाला का आयोजन

लखनऊ : 11 मई (त्रिवेणी न्यूज़)

लखनऊ विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग में संचालित पी.जी.पाठ्यक्रम – “क्रिमिनोलॉजी एंड क्रिमिनल जस्टिस एडमिनिस्ट्रेशन” व जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय, लखनऊ के संयुक्त तत्वावधान  में  ब्राइट वे पब्लिक स्कूल, बाबूगंज, लखनऊ मे पोक्सो अधिनियम एवं बच्चों के प्रति बढ़ते हुए यौन अपराध के रोकथाम के संबंध में कार्यशाला का आयोजन विभागाध्यक्ष प्रो राकेश द्विवेदी के मार्गदर्शन तथा क्रिमिनल एंड क्रिमिनल जस्टिस एडमिनिस्ट्रेशन के सहायक आचार्य डॉ ओमेंद्र कुमार यादव के संयोजन में किया गया। छात्र अनुपम गुप्ता ने कार्यशाला की भूमिका तथा समाज कार्य विभाग के बारे संक्षिप्त मे जानकारी देते हुए कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। तत्क्षण मिस संस्कृति ने पॉस्को कानून का उद्देश्य बताते हुए बाल दुर्व्यवहार के प्रकार, कारण एवं बच्चों पर उसके प्रभाव जैसे व्याकृत, अवसाद होने के बारे मे जानकारी दी तथा यह भी बताया के पॉस्को अधिनियम के 18 वर्ष कि आयु से कम का व्यक्ति बालक  की श्रेणी मे आता है और वह अधिनियम के तहत शिकायत दर्ज करा सकता है ।

इसके उपरान्त अनुपम गुप्ता ने पॉस्को अधिनियम में कोर्ट एवं पुलिस द्वारा बच्चों के अनुकूल वातावरण प्रयोग करने के साथ- साथ एक साल के अंदर सुनवाई खतम करने के बारे मे भी बच्चों एवं शिक्षको को जानकारी प्रदान की। इसके बाद छात्र आनंद ने अपने कुछ वास्तविक अनुभव एवं उदाहरण देकर बच्चों को विस्तृत रूप से जागरूक किया। उसके पश्चात अदिति  द्वारा बच्चों एसे किसी भी दुर्व्यवहार एवं उत्पीड़न के लिये शान्त ना बैठकर अपने माता पिता या शिक्षको को इसके बारे मे रिपोर्ट करके आवाज़ उठाने को प्रेरित किया एवं ये भी बताया के अधिनियम के अनुसार  बालक की पहचान को गुप्त रखा जाता है। अंत मे अमन चौधरी तथा अभिषेक रघुवंशी द्वारा बच्चों से कार्यशशाला से संबंधित प्रश्न किये एवं चॉकलटे वितरण करके कार्यशाला का समापन किया गया। कार्यशाला मे विद्यालय के शिक्षक भी मौजुद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *