अंबर फाउंडेशन की ओर से गरीब बच्चों को स्वेटर बांटा गया

लखनऊ :12 दिसंबर त्रिवेणी (न्यूज़)


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा दिखाई गई राह पर आगे बढ़ते हुए अम्बर फाउंडेशन के चेयरमैन वफा अब्बास ने एक और नई पहल करते हुए लखनऊ की ग़रीब बस्तियों में स्वेटर वितरण कार्यक्रम प्रांरंभ किया है जो 30 जनवरी 2023 तक चलेगा जिस में हज़ारों स्वेटर बांटे जाएंगे। ज़रूरतमंद परिवार के व्यक्तियों के 5 से 8 साल के बच्चों हेतु स्वेटर वितरण कार्यक्रम लखनऊ के विभिन्न इलाक़ों में तेज़ी से चल रहा है जिसमें कई हज़ार स्वेटर बांटे जा चुके हैं।


स्वेटर वितरण कार्यक्रम को गति देते हुए मंगलवार को लखनऊ में दो स्थानों पर बड़े पैमाने पर स्वेटर बांटे गये। अम्बर फाउंडेशन द्वारा स्वेटर वितरण कार्यक्रम सुबह ठाकुरगंज स्थित सेन्ट रोज़ पब्लिक स्कूल में किया गया जिस में क्षेत्र के कई सौ 5 से 8 वर्ष के बच्चों को मुफत स्वेटर वितरित किए गये। इसके पश्चात एक और कार्यक्रम नौबस्ता स्थित भारत एकैडमी में आयोजित किया गया जिस में स्कूल की संस्थापिका श्रीमति सरवन सक्सैना ने अम्बर फाउंडेशन द्वारा आयोजित स्वेटर वितरण कार्यक्रम में सहायक भूमिका निभाई।
एक दिन पूर्व सोमवार को अंगूरी बाग़ स्थित लखनऊ ओरियन्टल स्कूल में स्कूल के संस्थापक तनवीर हुसैन की उपस्तिथि में 5 से 8 वर्ष के बच्चों को अम्बर फाउंडेशन द्वारा स्वेटर वितरित किए गये थे। रोज़ाना नित नये इलाक़ों को चुन कर सैकड़ों 5 से 8 वर्ष के बच्चों को स्वेटर वितरण का कार्यक्रम जारी है। इनमें लखनऊ के कृष्णापुरी और सआदतगंज इलाक़े भी शामिल हैं जहां स्वेटर वितरण कार्यक्रम आयोजित किया जा चुका है। कल्यानपुर स्थित फास्टर एकैडमी में स्वेटर वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया जा चुका है। अब तक हजारों स्वेटर वितरित किए जा चुके हैं।
अपने मन की बात करते हुए अम्बर फाउंडेशन के चेयरमैन वफा अब्बास का कहना है कि छोटे कमउम्र बच्चों को वितरित किए जाने वाले ये स्वेटर उत्तर भारत की कड़कड़ाती ठंड से बचाने में कितना लाभकारी सिद्ध होंगे आप स्वयं अंदाज़ा लगा सकते हैं।
वफा अब्बास ने बताया कि अम्बर फाउंडेशन स्वेटर वितरण का ये कार्यक्रम 30 जनवरी 2024 तक जारी रखेगी। शहर का कोई भी बच्चा ठंड के कारण बीमार न पड़े ऐसा वफा अब्बास की ख़्वाहिश है। ‘हमारे तमाम बेहतरीन कामों में हमारे प्रेरणा स्त्रोत देश के रक्षा मंत्री और लखनऊ से सांसद माननीय राजनाथ सिंह हैं,’ वफा अब्बास बताते हैं और कहते है कि वह इस प्रकार के काम ज़ोर शोर से करते रहेंगे।
वफा अब्बास ने बताया कि अम्बर फाउंडेशन कई अन्य क्षेत्रों में काम कर रही है। 16 अगस्त 2023 से नित नये इलाक़ों में आंखों की जांच के शिविर लगाए जाते रहे हैं। ऐसे हर शिविर में दो सौ से सात सौ लोगों की निशुल्क नेत्र जांच की जाती रही है। वफा अब्बास ने मार्च 2024 तक 25000 निशुल्क नेत्र जांच कर लेने का टारगेट बनाया गया है। अब तक दस हज़ार से अधिक व्यक्तियों की आंखों की जांच करके निशुल्क चश्मा वितरण का कार्य किया जा चुका है।
जिन व्यक्तियों की निशुल्क नेत्र जांच की जा रही है उनमें से अनेक ऐसे पाए गयें जिन को मोतियाबिंद था जिसका तुरंत आप्रेशन होना अनिवार्य था। अम्बर फाउंडेशन की ओर से वफा अब्बास ने क़रीब 3000 लोगों की आंखों के आप्रेश्न में आर्थिक सहायता प्रदान करने का आहवान किया है।
इसके अतिरिक्त अम्बर फाउंडेशन ज़रूरतमंद बच्चों के स्कूल की फीस भरने में भी मदद करती है। लखनऊ के विभिन्न स्कूलों में पढ़ रहे क़रीब एक हज़ार बच्चों की स्कूल की फीस अम्बर फाउंडेशन की ओर से दी जा रही है।
अम्बर फाउंडेशन ध्येय कोचिंग के साथ मिलकर कलैक्टर बिटिया अभियान भी चला रही है जिसमें आर्थिक रूप से कमज़ोर 300 छात्राओं को आईएएस/पीसीएस की निशुल्क कोचिंग प्रदान कराने की सुविधा है। बीते कई महिनों से कलैक्टर बिटिया अभियान चल रहा है और पिछली बार चुनी गई कई बच्चियां पीसीएस की प्री परीक्षा क्वालिफाई कर चुकी हैं और शीघ्र होने वाली लिखित परीक्षा में बैठेंगी।
पिछले सप्ताह इस्लामिक फाउंडेशन आफ इंडिया के प्रांगण में अम्बर फाउंडेशन ने 50 दिव्यांग व्यक्तियों को निशुल्क ट्राईसाईकिल वितरण करके अपने कार्यक्षेत्र को और अधिक विस्तृत किया है। ‘बड़ी बात पैसा खर्च करना नहीं है बल्कि बड़ी बात ये है कि हमारी टीम चप्पे चप्पे में घूम कर ज़रूरतमंदों की तलाश करने में जुटी है, ताकि उनको उनकी आवश्यकता अनुसार सहायता प्रदान की जा सके,’ वफा अब्बास का कहना है।
अपने विभिन्न कामों के माध्यम से वफा अब्बास लखनऊ के हजारों ज़रूरतमंदों और ग़रीबों के साथ जुड़कर उनके दिलों में एक विशेष स्थान बना चुके हैं। वफा अब्बास बताते हैं कि ‘रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की यही नसीहत है कि दिलों को जोड़ने और ग़रीबों की सहायता करने का काम जारी रखें और इस काम में किसी प्रकार भी धर्म या जाति के भेद भाव को रूकावट न बनने दें।’ ‘हमारी निरंतर कोशिश ग़रीब परिवारों से जुड़कर उनकी जिंदगी में कुछ बेहतरी लाने की है’, वफा अब्बास बताते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *