लखनऊ के साहित्यकारों ने क्षयमुक्ति आंदोलन महायज्ञ में आहुति डालने का संकल्प लिया

लखनऊ : 1 फरवरी (त्रिवेणी न्यूज़)


      महाकवि जयशंकर प्रसाद की जन्म जयंती सप्ताह के क्रम में  राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम, उप्र एवं युवा उत्कर्ष   साहित्यिक मंच, उप्र इकाई के संयुक्त तत्वाधान में ”  क्षय मुक्त भारत की  संकल्पना में भारत के साहित्यकारो का योगदान ” विषय पर एक साहित्यिक संगोष्ठी का आयोजन दिनांक दिनांक 31-01-24 ( सायं 6:00 बजे ) को नग0 सा0 स्वा 0 केंद्र अलीगंज के सभागार में  आयोजित किया गया l संगोष्ठी की अध्यक्षता प्रसिद्ध व्यंग पत्रिका अट्टहास के प्रधान संपादक, वरिष्ठ साहित्यकार एवं पत्रकार श्री अनूप श्रीवास्तव जी ने किया l जबकि मुख्य अतिथि के रूप  राज्य क्षय नियंत्रण कार्यक्रम अधिकारी,  डा. शैलेन्द्र भटनागर जी, मुख्य वक्ता के रूप मे सहायक निदेशक केंद्रिय हिंदी निदेशालय, नई दिल्ली  द्वय डा0 दीपक पाण्डेय,  एवं डा नूतन पांडेय जी ने प्रतिभाग किया
 विशिष्ट वक्ता के रूप में लखनऊ के वरिष्ठ साहित्यकार  एवं अध्यक्ष अवध भारती संस्थान, उप्र डा0 राम बहादुर मिश्रा जी
ने संगोष्ठी को सम्बोधित किया l
कार्यक्रम का शुभारम्भ डा सुभाष चंद रसिया के सरस्वती वंदना से हुआ l नगरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अलीगंज के चिकित्सा अधीक्षक डा. सोमनाथ सिंह ने संगोष्ठी में पधारे अतिथियों का स्वागत किया l
   कार्यक्रम का  संचालन करते हुए, युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच के प्रांतीय अध्यक्ष श्री राजेश कुमार सिंह श्रेयस ने क्षय मुक्ति आंदोलन  पर अपनी  एक भावपूर्ण कविता प्रस्तुत करने के उपरांत कहा कि “जैसा कि आप अवगत हैं कि प्रत्येक काल खंड में सामजिक हित से जुड़े किसी विषय पर  जन जागरुकता को मूर्तरूप देने में समाज के विभिन्न समूह वर्ग द्वारा योगदान दिया जाता रहा है l
ऐसे कार्यो में साहित्यकार वर्ग का भी सदैव से बहुत बड़ा योगदान रहा है l
यह क्षय रोग एक भीषण दानव से कम नही है l पूर्व काल में इसकी भयावहता इस कदर थी कि इसने कई परिवारों को चपेट लिया करता था, इतना ही नही इसने एक से महापुरुषों को भी हमसे छिना है l हिंदी गद्य के महान साहित्यकार एवं कामायनी  जैसे महाकाव्य के लेखक श्री जयशंकर प्रसाद एवं उनकी पत्नी को भी इस रोग ने नही छोड़ा l अब हम साहित्यकारों को क्षय के खिलाफ जनजागरूकता फैलाने हेतु महा अभियान छेड़ना है और माननीय प्रधान मंत्री जी के वर्ष 2025 तक भारत को क्षय मुक्त किये जाने के महा संकल्प को पूरा करना है l
कार्यक्रम में  आये सभी वक्ताओं ने अपने सारगर्भित सम्बोधन के माध्यम से क्षय के खिलाफ आंदोलन छेड़ने की अपनी प्रतिबद्धता का संकल्प लिया l साहित्य त्रिवेणी पत्रिका के प्रधान सम्पादक श्री कुंवर वीर सिंह मांर्तण्ड ने क्षय मुक्ति महा संकल्प पर विशेषांक प्रकाशित करने की घोषणा की l
मुख्य अतिथि के रूप में पधारे राज्य क्षय नियंत्रण कार्यक्रम अधिकारी डा शैलेन्द्र भटनागर ने क्षय रोग विषय पर सारगर्भित जानकारी देते हुए लोगो से क्षय रोगियों को गोद लेने की अपील की l    एसोसिएट प्रोफेसर( केमेस्ट्री ) एवं प्रख्यात कहानीकार डा. श्रीप्रकाश मिश्र ने  क्षय मुक्त भारत की संकल्पना पर आधारित श्री राजेश कुमार सिंह “श्रेयस” कृत उपन्यास तुमसे क्या छुपाना की समीक्षा प्रस्तुत की l
कार्य में विभिन्न साहित्यिक संगठनों के साहित्यकारों एवं पत्रकारो ने भाग लिया जिसमें.श्री अनूप श्रीवास्तव जी – माध्यम साहित्यिक संस्था, लखनऊ.डा0 राम बहादुर मिश्रा जी – अवध भारती संस्थान, हैदरगढ़, बाराबंकी,डा0 अशोक अज्ञानी जी -अध्यक्ष अमृतायन साहित्यिक संस्था, लखनऊ, डा0 कुंवर वीर सिंह, मार्तण्ड, सम्पादक, साहित्य त्रिवेणी ( संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा पुरस्कृत बहुभाषी पत्रिका ).श्री सुभाष चंद रसिया एवं श्री महेश चंद्र गुप्ता -पुरवी बयार, लखनऊ,श्री रमाशंकर सिंह – चेतना साहित्य परिषद, लखनऊ,श्री नंदकिशोर वर्मा ‘जलदूत ‘- महासचिव, युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच  श्री कन्हैया लाल -लक्ष्य साहित्यिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्थान श्री नवल किशोर त्रिपाठी- संपादक राष्ट्रीय नवल टाइम्स,
श्री प्रदीप सारंग – आँखें फाउंडेशन, बाराबंकी महामंत्री अवध भारती संस्थान, शिवांग वर्मा, जिला परियोजना अधिकारी, वन विभाग प्रमुख रहे l क्षय उन्मूलन कार्यक्रम उप्र एवं युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच ने इनको सम्मान पत्र प्रदान कर सम्मानित किया कार्यक्रम में डिप्टी आर टी पी एम ओ, डा अखिलेश त्रिपाठी जी सहित श्री शिरीष मिश्रा,  दिनेश जायसवाल राज  अभय
मृत्युंजय मिश्रा श्री अस्फाक  सेराज  मनीष मगन,आर एस विश्वकर्मा, अनिल कुमार सचान,नोखे जी बनवारी अश्वनी पंकज डा नरेन्द्र श्री संतोष डा दिनेश बलिगा डा अश्वनी,श्री नील कमल ने भागीदारी की l
कार्यक्रम के अन्त में नंदकिशोर वर्मा ने सभी को धन्यवाद दिया l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *