मुख्यमंत्री ने लखनऊ विश्वविद्यालय में”अखिल भारतीय संस्थागत नेतृत्व समागम 2024″ का उद्घाटन किया

लखनऊ :15 फरवरी (त्रिवेणी न्यूज़)

आज लखनऊ विश्वविद्यालय के परिसर में  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान,  उच्च शिक्षा विभाग उत्तर प्रदेश सरकार और लखनऊ विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित तीन दिवसीय “अखिल भारतीय संस्थागत नेतृत्व समागम 2024” उद्घाटन किया।

इस कार्यक्रम मैं शामिल विशिष्ट अतिथियों  में  भारत सरकार के शिक्षा राज्य मंत्री डॉ राजकुमार रंजन सिंह एवं  उच्च शिक्षा मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार, योगेंद्र उपाध्याय , उच्च शिक्षा राज्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार, श्रीमती रजनी तिवारी, मत्स्य पालन मंत्री, उत्तर प्रदेश सरकार, डॉ. संजय कुमार निषाद, विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रो कैलाश चंद्र शर्मा आदि के नाम उल्लेखनीय है।  मुख्य अतिथि और विशिष्ट अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलन और विश्वविद्यालय की छात्राओं द्वारा सरस्वती वंदना के साथ कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ हुआ।


स्वागत उद्बोधन मे लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर आलोक कुमार राय ने कहा कि संस्थागत समागम मे उच्च शिक्षा के क्षेत्र में नीतियों, रैंकिंग, और प्रमाणीकरण के महत्वपूर्ण मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया जायेगा, जिससे शिक्षा प्रणाली को और मजबूत और गुणवत्ता की दिशा में बढ़ाया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा की नीतियां और योजनाएं एक मार्गदर्शक स्तर पर स्थापित की जा रही हैं, जिससे छात्रों को समृद्धि, समर्पण, और विशेषज्ञता की ऊँचाइयों तक पहुंचाने में सहायता हो सके। शिक्षा का मुख्य उद्देश्य, व्यक्ति के समृद्धि और समृद्धि की दिशा में मार्गदर्शन करना तथा व्यक्ति को नैतिकता, साहित्यिक रूपरेखा, और सामाजिक जिम्मेदारियों के साथ अवगत कराना है। उन्होंने बताया कि महात्मा गाँधी, शिक्षा को सिर्फ ज्ञान देने का साधन नहीं, बल्कि ज्ञान के साथ-साथ जीवन कौशल, व्यक्तिगत विकास, और सामाजिक सेवा को बढ़ावा देना मानते थे| उन्होंने कहा कि नयी शिक्षा नीति 2020 के गाइडिंग पिलर्स (एक्सेस, इक्विटी, क्वालिटी, ऑफॉर्डबिलिटी और अकाउंटेंबिलिटी) आगामी दिनों में सामाजिक और आर्थिक स्तरों पर सुधार का मार्गदर्शन करेंगे| शिक्षण संस्थाए नए पाठ्यक्रमों, तकनीकी सुधारों, और शिक्षक प्रशिक्षण के माध्यम से शिक्षा के बदलाव मे महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकती है| उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में नए एजुकेशन 5.0 के युग का आरंभ हो गया है , जिसका मुख्य उद्देश्य तकनीकी उन्नति, रोजगार के लिए तैयारी, और समाज में सामाजिक सहयोग को बढ़ावा देना है| अपने उद्बोधन के अंत में कुलपति जी ने सभी सम्मानित अत्थियो को स्वागत प्रेसित किया|

समागम के दौरान प्रोफेसर कैलाश चंद्र शर्मा ने इस महत्वाकांक्षी आयोजन के लक्ष्यों के बारे में जानकारी साझा किया। अपने भाषण में, उन्होंने उल्लेख किया कि वीबीयूएसएस और लखनऊ विश्वविद्यालय के बीच यह सहयोगात्मक प्रयास लखनऊ में आयोजित दूसरा समागम है, और इससे पहले पिछले वर्ष इंदौर में  पहला समागम आयोजित किया गया था। प्रोफेसर शर्मा ने इस बात पर प्रकाश डाला कि विद्या भारती की उत्पत्ति माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी जी की कर्मभूमि शिशु मंदिर, गोरखपुर से हुई। विद्या भारती अब अखिल भारतीय स्तर पर विकसित हो गई है।,

विद्या भारती का प्राथमिक उद्देश्य सिद्धांत और पंचकोशात्मक दर्शन के संयोजन के एक अद्वितीय दृष्टिकोण के माध्यम से समग्र विकास प्राप्त करना है, जो नई शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 के निर्माण में योगदान देता है। एनईपी 2020 में पंडित मदन मोहन मालवीय के शैक्षिक दर्शन के सिद्धांतों को भी शामिल किया गया है। प्रोफेसर शर्मा ने राष्ट्रीय शैक्षिक परिदृश्य को बढ़ाने, एनईपी 2020 की नीतियों को लागू करने और संचालित करने में नेताओं की महत्वपूर्ण भूमिका पर जोर दिया।

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि शिक्षा किसी राष्ट्र के विकास और वैश्विक महाशक्ति के रूप में विकसित होने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह कोई अल्पकालिक प्रक्रिया नहीं बल्कि निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है। समागम आने वाले दिनों में कई समानांतर सत्रों की मेजबानी करेगा, जिसमें विभिन्न उच्च शिक्षण संस्थानों के नेता एक साथ आएंगे। उनके सहयोगात्मक प्रयासों और विचार-मंथन सत्रों का उद्देश्य उच्च शिक्षा में युवा छात्रों के समग्र विकास के लिए महत्वपूर्ण परिणाम प्राप्त करना है।
अंत में उन्होंने कहा कि समागम का उद्देश्य प्रमुख बिंदुओं को तैयार करना है, जिन्हें लखनऊ घोषणापत्र में शामिल किया जाएगा, जिसे उच्च शिक्षण संस्थानों द्वारा लागू किया जाएगा। प्रोफेसर शर्मा ने इस बात पर जोर देते हुए निष्कर्ष निकाला कि नेता दूसरों को दिशा प्रदान करके राष्ट्र का मार्गदर्शन करते हैं।

उत्तर प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री  योगेन्द्र उपाध्याय ने गणमान्य व्यक्तियों को संबोधित करते हुए शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डाला जो भारतीय संस्कृति को शामिल करती है और युवा पीढ़ी में स्वतंत्रता और आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देती है। उन्होंने शिक्षा को संस्कृति, रोजगार और प्रौद्योगिकी के साथ जोड़ने की आवश्यकता पर बल दिया।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के मार्गदर्शन में एनईपी 2020 की पहल का उद्देश्य शिक्षा प्रणाली को प्राचीन भारत में मौजूद स्तर तक ऊपर उठाना है। प्राचीन भारतीय शिक्षा ने खगोल विज्ञान, चिकित्सा, कृषि और अन्य विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। भारत में संतों ने अपने गहन ज्ञान से अभूतपूर्व खोजों के माध्यम से भारतीय शिक्षा में एक नया आयाम लाया। यह प्रभाव इतना महत्वपूर्ण था कि प्रौद्योगिकी और विज्ञान से दूर एक ग्रामीण भी पंचांग का उपयोग करके सूर्य और चंद्रमा ग्रहण का समय निर्धारित कर सकता था।

उन्होंने यह भी कहा कि विदेशी शासन के दौरान, भारत ने शिक्षा में अपना प्राचीन सांस्कृतिक संबंध खो दिया। शिक्षा अध्यात्म और संस्कृति से विमुख हो गई। आधुनिक भारतीय शिक्षा में इस अंतर को पहचानते हुए, वर्तमान सरकार के नेताओं ने उच्च शिक्षा को एक नई दिशा प्रदान करने के लिए नई शिक्षा नीति 2020 पेश की।

मंत्री उपाध्याय ने कहा कि इस शिखर सम्मेलन में नेता सक्रिय रूप से भाग लेंगे और विचार-मंथन सत्र में भाग लेंगे। लखनऊ घोषणा के रूप में परिणाम, भारतीय समाज में कुशलतापूर्वक प्रसारित किया जाएगा, जिससे एक नव विकसित राष्ट्र के विकास को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यह शिखर सम्मेलन राष्ट्र के लाभ के लिए विकास के अमृत के समान सकारात्मक बदलाव लाएगा।

राजकुमार रंजन जी ने अपने भाषण में कहा कि भारत में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में उज्ज्वल भविष्य का मार्ग प्रशस्त करने के लिए इस शिखर सम्मेलन की योजना बनाई गई है। राष्ट्र के विकास के लिए उच्च शिक्षा की भूमिका महत्वपूर्ण है और इसे पूरे भारत में उत्कृष्ट पहुंच सुनिश्चित करते हुए प्रत्येक छात्र तक अपनी पहुंच बढ़ानी चाहिए। शिक्षा को दूरदर्शी दृष्टिकोण अपनाना चाहिए और सभी के लिए अवसर प्रदान करना चाहिए।
एनईपी 2020 केवल एक नीति दस्तावेज नहीं है, बल्कि राष्ट्रीय विकास का एक खाका भी है, जो भारतीय लोकाचार को समाहित करता है और विकासशील भारत 2024 के दृष्टिकोण के साथ शिक्षा में बहु-विषयक दृष्टिकोण पर जोर देता है। कठोर एनएएसी प्रक्रिया का उद्देश्य उच्च शिक्षा में उत्कृष्टता लाना है। वंचित समुदायों को वित्तीय सहायता प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित करें।
एनईपी शिक्षा जगत और उद्योग भागीदारों के साथ सहयोगात्मक प्रयासों के माध्यम से अनुसंधान और विकास को बढ़ावा देने पर महत्वपूर्ण जोर देता है। शिक्षा को वैश्विक दृश्यता प्राप्त करते हुए समाज की जरूरतों को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया जाना चाहिए। पिछली शिक्षा प्रणाली ऑनलाइन साक्षरता और देश के हर कोने में गुणवत्तापूर्ण उच्च शिक्षा पहुंचाने, सभी भारतीय भाषाओं सहित हमारी जड़ों से गहरा संबंध स्थापित करने पर केंद्रित थी। पाठ्यक्रम में भारतीय ज्ञान प्रणाली का एकीकरण महाकवि सुब्रमण्यम भारती को श्रद्धांजलि है।
एनईपी 2020 सभी के लिए भाषाई विकास और समावेशन की वकालत करता है। शैक्षिक परिवर्तन की यात्रा शैक्षिक शिक्षा, उद्योग और समाज से जुड़ा एक सामूहिक प्रयास है। हम मिलकर उत्कृष्टता हासिल करने के लिए उच्च शिक्षा प्रणाली को बदल सकते हैं।
तीन दिवसीय संस्थागत नेतृत्व शिखर सम्मेलन के उद्घाटन समारोह के दौरान शिखर सम्मेलन 2024 को संबोधित करते हुए माननीय मुख्यमंत्री ने प्राचीन भारतीय परंपराओं के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने लखनऊ से 70 किलोमीटर दूर स्थित ऐतिहासिक और पवित्र स्थान नैमिषारण् का वेदो मे योगदान के बारे मे जिक्र किया, जहां 88,000 ऋषियों और मुनियो ने वैदिक परंपराओं की चेतना को बढ़ावा दिया| मुख्यमंत्री ने सभी अतिथियों का स्वागत किया और अमृत महोत्सव के समापन और अमृत काल की शुरुआत पर चर्चा की। उन्होंने 2047 में स्वतंत्रता की शताब्दी पर विकसित भारत की कल्पना की, जिसमें सभी पृष्ठभूमियों के नागरिकों के लिए योगदान देने को कहा । शिक्षा मे हो रहें नवाचारो पर विश्वास जताते हुए कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में भारत तीन से चार वर्षों में समृद्धि प्राप्त करेगा।
उन्होंने भारतीय मूल्यों की पुनर्वापसी और शिक्षाविद्यालयों की मानव, सामाजिक और राष्ट्रीय विकास में जिम्मेदारी पर जोर दिया| उन्होंने सरकारी कार्यक्रमों को पाठ्यक्रम में शामिल करने और ज्ञान के साथ-साथ चरित्र विकसित करने की मांग की।
प्राचीन वैदिक समागमों के साथ तुलना करते हुए, मुख्यमंत्री ने भारतीय ज्ञान प्रणाली और वैदिक शिक्षा के महत्व को बताया। उन्होंने विद्या भारती के भारतीय मूल्यों, राष्ट्रीय गीत सहित संरक्षण में योगदान की सराहना की और एकल विद्यालयों को दूरस्थ क्षेत्रों में शिक्षा पहुँचाने के लिए आभार व्यक्त किया। प्रतिष्ठानिधियों को नैमिषारण्य और अयोध्या की यात्रा करने, और इन ऐतिहासिक स्थलों को और भी अधिक महत्वपूर्ण बनाने के लिए अतिथियों से सुझाव देंने को कहा| समापन में उन्होंने इस महोत्सव की सफलता के लिए आशीर्वाद और शुभकामनाएं दी

उत्तर प्रदेश सरकार की उच्च शिक्षा राज्य मंत्री रजनी तिवारी ने अपने संबोधन में कहा कि यह कार्यक्रम एक बहुत ही अच्छी सोच के साथ किया गया है, जिसका मुख्य उद्देश्य भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री जी के विकसित भारत के विजन को पूरा करना है| उन्होंने कहा कि आज उत्तर प्रदेश सहित पूरा देश त्रेतायुग की अनुभूति कर रहा है|

इस शैक्षिक कार्यक्रम में देशभर से अति विशिष्ट शिक्षण संस्थानों और विश्वविद्यालयों से सैकड़ो की संख्या में जिम्मेदार पदाधिकारी और शिक्षाविद शामिल हो रहे हैं।

उद्घाटन सत्र के बाद इन अतिथियों के सम्मान में प्रोफेसर मधुरिमा लाल के निर्देशन में विश्वविद्यालय के छात्र और छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *