राजेश कुमार सिंह ‘श्रेयस’ ने  अंतराष्ट्रीय रामायण महोत्सव  में ‘रामायण में नदियाँ ‘ विषय पर अपना शोध पत्र प्रस्तुत किया

भोपाल 13 मार्च (त्रिवेणी न्यूज़)

    “बिबुध नदी महिमा अति गाई”

गत दिवस राजधानी लखनऊ के वरिष्ठ साहित्यकार श्री राजेश कुमार सिंह ‘श्रेयस’ ने राजा भोज की नगरी भोपाल के मानस भवन में आयोजित द्वितीय अंतराष्ट्रीय रामायण महोत्सव  में  “रामायण की नदियाँ,  ईश्वर और प्रकृति का आत्मिक स्वरूप विषय पर शोध पत्र व्याख्यान में कहा कि  मर्यादा पुरुषोत्तम राम का नदियों के प्रति अगाध प्रेम, उनका प्रकृति के प्रतीक  प्रेम एवं आम जन को संदेश है कि हमें नदियों का संरक्षण करना चाहिए ।


उन्होंने अपनी दोनों यात्राओं ( महर्षि विश्वामित्र के साथ बक्सर की यात्रा या वन गमन यात्रा ) में न सिर्फ नदियों के तट प्रवास किया, बल्कि उनके पावन जल में स्नान किया तथा नदियों की  महिमा का भी बखान किया l
श्री श्रेयस में जनपद बलिया के रसड़ा तहसील के निकटवर्ती गाव लखनेश्वर डीह नामक स्थान में तमसा नदी के तट पर विश्राम करने तथा लक्ष्मण जी द्वारा शिवलिंग की स्थापना का भी उल्लेख अपने शोधपत्र में  किया l
सम्मेलन में लगभग 73 शोध पत्र सम्मलित किये गए l  इंडोनेसिया, कम्बोड़िया सहित कई देशों के शिक्षाविद, साहित्यकार मानस मर्मज्ञ सहित कई प्रांतो के रामानुरागी, साहित्यकारों एवं विद्वानों ने कार्यक्रम को सम्बोधित किया l
सिक्किम के केंद्रीय विश्वविद्यालय में चीनी विषय के प्रोफेसर डॉ इरफ़ान अहमद का चीन के दो बौद्ध रामायण  पर आधारित शोध पत्र वाचन किया l
तुलसी मानस प्रतिष्ठान भोपाल एवं रामायण केंद्र भोपाल के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित इस सम्मेलन का आयोजन श्री रघुनन्दन शर्मा, पूर्व सांसद एवं कार्यालय अध्यक्ष तुलसी मानस प्रतिष्ठान एवं रामायण केंद्र भोपाल के अध्यक्ष एवं मध्यप्रदेश शासन में तीर्थ स्थान एवं मेला प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ राजेश श्रीवास्तव जी ने किया l कार्यक्रम में श्री राम एवं श्री राम से जुड़े स्थानों, विषयों पर आधारित भव्य विशाल प्रदर्शनी लगाईं गयी l
सम्मेलन के द्वितीय दिवस जिन मुख्य विद्वानों का आगमन एवं उद्बोधन हुआ उनमे श्री मनोज श्रीवास्तव पूर्व अपर मुख्य सचिव, मप्र शासन,श्री माधव सिंह दांगी, लोक संस्कृति विशेषज्ञ, श्री कैलाश चंद पंत संचालक, राजभाषा प्रचार समिति, श्री प्रभु दयाल मिश्र, प्रधान संपादक, तुलसी मानस भारती ( पत्रिका ), श्री रमेश शर्मा, बरिष्ठ पत्रकार, डॉ सुरेंद्र बिहारी गोस्वामी, भागवत् एवं मानस मर्मज्ञ, श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, कलेक्टर ( जिलाधिकारी ) भोपाल,डॉ सीता शरण शर्मा, पूर्व अध्यक्ष मध्य प्रदेश, विधानसभा,श्री सुरेश पचौरी, पूर्व केंद्रीय मंत्री भारत सरकार प्रमुख रहे l
सम्मेलन में श्री श्रेयस के शीघ्र प्रकाश्य कृत वीरवर लक्ष्मण : मानस के मौन योद्धा के मुख पृष्ठ का विमोचन भी किया गया l इस अवसर पर लखनऊ के साहित्यकारों में छंदकार आचार्य ओम नीरव, श्री साकिर रब्बानी, नानपारा,( वर्तमान में सेवा निवृति के उपरांत भोपाल में रह रहे है ) भी उपस्थित रहे l श्री श्रेयस ने अपने उद्बोधन में प्रख्यात पर्यावरण विद नन्दकिशोर वर्मा “जलदूत”  के दोहे को पर्यावरण संरक्षण के सन्दर्भ में उद्धरित किया l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *