पुरानी पेंशन की बहाली को लेकर शिक्षकों ने काला दिवस मनाया

लखनऊ : 1 अप्रैल (त्रिवेणी न्यूज़)


आज दिनांक 1 अप्रैल 2024 को उत्तर प्रदेश के शिक्षकों एवं कर्मचारियो द्वारा लुआक्टा एवं अटेवा के संयुक्त तत्त्वधान मे पुरानी पेंशन बहाली के लिए 1 अप्रैल को काला दिवस के रूप में मनाया गया। सूच्य है कि उत्तर प्रदेश मे 1 अप्रैल 2005 को पुरानी पेंशन योजना को समाप्त कर नई पेंशन योजना लागू की गयी थी जिसे आज काला दिवस के रूप मे काला फीता बांधकर मनाया गया । नयी पेंशन योजना को उत्तर प्रदेश में लागू हुए 19 वर्ष हो चुके हैं, तथा अव इसके परिणाम भी सामने आने लगे हैं , किसी को 500 रुपये, किसी को 1200 रू किसी को 1800 रू पेंशन के रूप में प्राप्त हो रहा है। पेंशन बुढापे की लाठी है, साथ ही साथ यह भी अवगत कराना आवश्यक है कि नेताओ द्वारा अभी भी पुरानी पेंशन योजना का लाभ लिया जा रहा है। लुआक्टा इस दोहरी व्यवस्था का विरोध करती है एवं देश में सभी के लिए समान पेंशन व्यवस्था लागू किये जाने की मांग करती हैं।

ग्यातव्य है कि संगठनो की मांग एवं आंदोलन के कारण पांच राज्यों द्वारा पुरानी पेंशन योजना बहाल की जा चुकी है, किन्तु उत्तर प्रदेश में यह योजना लागू नही है। इसके अतिरिक्त केंद्र सरकार द्वारा 1 जनवरी 2004 के पूर्व के नियुक्तियों हेतु विज्ञापित पदों पर नई पेंशन योजना लागू होने के बाद के कार्मिको को पुरानी पेंशन योजना का लाभ प्रदान किया है भले उनकी नियुक्ति 1 जनवरी 2004 के बाद हुई हो, किंतु उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अभी तक 1 अप्रैल 2005 से पूर्व विज्ञापित पदों के शिक्षकों एवं कर्मचारीयो को यह लाभ प्रदान नही किया गया है। लुआक्टा इसकी भी मांग करता है। सीमा पर तैनात अर्ध सैनिक बल के साथियो को भी यह लाभ प्राप्त नही है यह अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण है। लुआक्टा के इस आहवान पर लखनऊ विश्वविद्यालय से सयुक्त लखनऊ, रायबरेली, सीतापुर, लखीमपुर, तथा हरदोई के साथियो द्वारा आज काला फीता बांधकर 1 अप्रैल को काला दिवस के रूप में मनाते हुए कार्य किया गया। लुआक्टा अध्यक्ष डा मनोज पांडेय एवं महामन्त्री डा अंशु केडिया द्वारा सभी राजनीतिक दलों से पुरानी पेंशन को अपने घोषणा पत्र में शामिल करने का आग्रह किया गया, तथा प्रदेश के सभी शिक्षकों एवं कर्मचारीयो से वोट फार ओ पी एस का आहवान किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *